Career In Aviation







International Air Transport Association (IATA) predicts that Indian aviation is going to become the third largest aviation market by the 2025, ranking just behind US and China in the list. If this is a correct prediction made by the IATA, the Indian aviation system will see numbers of professionals touching twice the figure than what it is now. While the global growth is expected to be stagnant, India is all gearing up to built new airports in the states of Kerala, Odisha, Andhra Pradesh, Goa, Maharashtra, Uttar Pradesh, Tamil Nadu and West Bengal. If all goes well, there will be high demands of Aviation professionals in and around the country.

For those who wish to hit the skies can do so for a living. Whether as a pilot or on the ground, the career options in the Aviation industry offers many opportunities for the advancement in piloting, engineering and mechanics, airport operations or aircraft manufacturing. From commercial airplanes or private manufacturing companies, to airports, or government organizations, the companies hire technicians and engineers to perform repairs and maintenance services or technicians to perform tests and develop new elements for various aircraft. Those with a strong background and a degree in mathematics, science or industrial engineering may fare particularly well in aviation.

What are the aspects for pursuing aviation education?

Aviation education has different branches based on the fields that one wants to work into. These are:

1. Aeronautical Engineering – One of the most prestigious branches of engineering, where engineers learn how to design aircrafts. To study aircraft engineering, which is a 4 years, bachelor of technology/bachelor of engineering course, students need to have science as a subject in their higher secondary and have an overall score of 50% marks. There are many qualifying examinations in which candidates need to prove themselves worthy of studying this elite engineering stream. Some of the examinations are JEE Main, BITSAT, MET, VITEEE, SRMJEEE, COMEDK UGET, KIITEE and IPU CET.

Job Outlook – One attractive feature of this stream is the high paying salary range that the work profile offers. The salary ranges between 1.5 lakh to 2.5 lakh per month.

Most Famous Colleges for Studying Aeronautical Engineering are:

a) Indian Institute of Technology, Bombay (IIT).

b) Indian Institute of Technology, Kharagpur (IIT).

c) Indian Institute of Technology, Kanpur (IIT).

d) Anna University of Chennai (AU).

e) PEC University of Technology, Chandigarh (PECUT).

f) Manipal Institute of Technology, Karnataka (MIT).

2. Commercial Pilot – The opening gates for becoming a pilot is becoming a commercial pilot. Commercial pilot trainings are given at various reputed institutes in 18 months period. Students who studied science in their 10+2 level with Physics, Chemistry and Mathematics as main subjects (with 55% aggregate marks) are eligible to sit for pilot aptitude tests conducted by respective institutes. Some the tests are – IGRUA (Indira Gandhi Rashtriya Uran Academy), Air India Aptitude Test.

Job Outlook – The demands for aviation pilots are always eccentric and it is one of the most lucrative career opportunities for students, who actually aim to fly high! In India, the aviation sector needs more pilots in the coming years and they are ready to pay a salary of 2 lakh per month to a fresher. Once experienced, a commercial pilot earns an average salary of 5-6 lakh per month!

Most Famous Colleges for Studying Aeronautical Engineering are:

a) Indian Institute of Technology, Kharagpur (IIT).

b) CAE Oxford in Gondia.

c) Orient Flights Aviation Academy in Mysore

d) Chimes Aviation Academy in Dhana.

e) Ahmedabad Aviation & Aeronautics Ltd. in Ahmedabad (AAA).

f) Flytech Aviation Academy in Hyderabad.

g) Indira Gandhi Rashtriya Uran Akademi in Raebareli (IGRUA).

3. Aviation Hospitality – If you are studying arts and you think your dreams of making a career in the aviation industry is over, think twice! The aviation sector has a huge demand in the hospitality area. The reputation of a company is made by the employees, so hospitality is one crucial segment in which some really knowledgeable professionals, who can provide excellent customer service. The diploma course in aviation is a 12 to 15 months course and students from any stream with an aggregate of 50% marks and really good communication skills can join this industry.

Job Outlook –As mentioned, there are huge demands for customer service members in the aviation industry and the starting salary ranges between 25k to 30k per month for domestic airlines and for foreign airlines it is around 45k to Rs. 1.3 lakh per month. After proper work experience, one can easily get 70k to 85k as monthly salary in domestic airlines.

Most Famous Institutions for Studying Aviation Hospitality are:

a) Institute of Hospitality and Travel Management in Delhi.

b) PTC Aviation Academy in Chennai.

c) Blue Sky Aviation Academy of Aviation and Hospitality Management in New Delhi.

 

4. Ground Staff in Aviation – These jobs are one of the attention to detail jobs, as a ground staff in aviation looks after the passengers, passengers’ well beings, guiding the aircraft to the right parking space, checking tickets and safely guiding the passengers to the aircrafts. For qualifying for a diploma course in ground staff in aviation diploma, one needs to have an education up to class 12 and passing the examination with at least 50% marks.

Job Outlook – The opening average salary of a ground staff in aviation is 18k monthly, which can go up to 45k after gaining certain experience.

5. Maintenance Engineer in Aircrafts – The technical aspects of an aeroplane for smooth and safe operations is maintained by the maintenance engineers. They work closely with the aeronautic engineers to check the operations of the aeroplanes and after that an aircraft maintenance certificate is provided by Directorate General of Civil Aviation. For studying aircraft maintenance engineering, one needs to have science as their subject in their 10+2 level with an aggregate of 50% marks (minimum). Then they need to qualify in the entrance examinations like JEE, JEE Mains and state level engineering entrance examinations.

Job Outlook – The aviation firms need these engineers for day-to-day operations and they pay an eye catching salary of Rs 7-8 lakh to freshers and that can increase to Rs 20 lakh after years of experience.


6. Aerospace Engineers
Education and Certifications Aerospace Engineers Need
An entry-level aerospace engineer may need a bachelor's degree in aerospace engineering or a related field.

Candidates for an aerospace engineer career need analytical and critical thinking skills and the ability to handle complex problem-solving. Many aeronautical engineers work on defense projects for the U.S. government, which requires a security clearance.

Some schools partner with companies to give prospective aerospace engineers practical experience while earning their degree. Some universities also offer five-year programs for candidates to earn both a bachelor's and a master's degree in aeronautical engineering. Advanced education may qualify an aerospace engineer to teach or work in product research and development.

Aerospace engineers who gain experience and want to take on more responsibility must earn a license as a professional engineer, which generally requires a degree from an accredited engineering program and passing scores on the Fundamentals of Engineering and the Professional Engineering exams.

Aeronautical engineers can take the Fundamentals of Engineering exam after earning a bachelor's degree, at which point they serve as engineers-in-training or engineer interns to acquire enough experience to take the Principles and Practice of Engineering exam.

Aerospace engineers in several states must take continuing education courses to maintain their licenses.

7.Aerospace Engineering and Operations Technicians
Education and Certifications Aerospace Engineering and Operations Technicians Need
Candidates for avionics technicians jobs should be detail-oriented and have good communication, critical-thinking, math, technical and interpersonal skills.

Certification is not required to work as an aerospace technician, but skills-based programs can help you earn certification through the Federal Aviation Commission, which can increase your hiring potential.

Certificate and diploma programs offered by vocational-technical schools provide training for work as an aerospace technician, but employers increasingly seek candidates with an associate in aerospace engineering technology degree. Aerospace technicians seeking to work on defense contracts must qualify for a security clearance, which sometimes requires U.S. citizenship.

What They Do
Without qualified aerospace engineering and operations technicians, none of us could feel safe getting on an airplane. Aerospace technicians are in charge of the equipment used to test new designs in aviation. An aerospace engineering and operations technician helps find solutions to fix problems.

An aerospace technician career includes using basic engineering principles and technical skills to support the work of engineers and others who develop, make and test aircraft, spacecraft and the systems operating them.

An aerospace technician career includes programming computers for flight simulation to test new aircraft designs; operating and calibrating computer systems so they meet various test requirements. An aerospace technician career also includes building and maintaining test facilities to meet engineers' specifications.

Aerospace techs conduct tests, record and analyze data and diagnose problems. Sometimes called avionics technicians, they adjust, repair or replace faulty components. Aerospace technicians discuss test procedures with aerospace engineers.

An aerospace tech career may include installing parts and systems to be tested, and monitoring production of aircraft systems to ensure they are of the highest quality.

8.Air Traffic Controllers
Education and Certifications Air Traffic Controllers Need
There are several ways to begin an air traffic controller career. The requirements state that an applicant must be a U.S. citizen, younger than 31 (only those without previous experience), complete training from one of the colleges recognized by the Federal Aviation Administration (FAA), attend and graduate from the Air Traffic-Collegiate Training Initiative and attain a qualifying score on the FAA pre-employment test.

If a worker has previous experience, such as Armed Forces training in air traffic control, he/she may not need to take the FAA education requirements. Other special exceptions may apply in terms of educational or training substitutions. Once qualified, air traffic controllers need to pass periodic drug tests and a rigorous physical exam as well as pass a performance examination twice a year.

What They Do
If working for aviation safety and security sounds like an exciting and challenging opportunity, then an air traffic controller career may be in your future. Air traffic controllers authorize, control and monitor the flow of aviation traffic according to federal and company safety policies and procedures.

Air traffic controller careers include organizing and coordinating the arrival and landing of airplanes. Air traffic controller careers involve relaying instructions to pilots, directing the movement of aircrafts using specialized radar and computer equipment to maximize safety and informing and authorizing pilots of flight path changes and/or emergencies.

An air traffic controller career involves relaying important information such as weather reports or visibility issues and monitoring ground traffic including baggage vehicles and workers

9.Aircraft and Avionics Equipment Mechanics and Technicians-
Education and Certifications Aircraft and Avionics Equipment Mechanics and Technicians Need
An aviation career, such as an aircraft mechanic, avionics equipment mechanic, aircraft technician, or an avionics equipment technician, may begin with graduating from an FAA-approved Aviation Maintenance Technical School. Some of these schools offer associate's degrees, while other offer a Bachelor of Avionics, Aviation Technology, or Aviation Maintenance Management. Many employers prefer candidates with a bachelor's degree.

Aircraft mechanics, avionics equipment mechanics, aircraft technicians, and avionics equipment technicians need certification from the Federal Aviation Administration (FAA). Although separate certifications are available for airframe mechanics and engine mechanics, employers prefer hiring individuals with a combined Airframe and Powerplant (A&P) certificate.

In order to maintain their certification, aircraft mechanics must inspect or repair aircraft every 90 days and attend a refresher course every two years.

What They Do
How many little kids dream of growing up and working on airplanes? Their dream can become a reality as an aircraft mechanic, avionics equipment mechanic, aircraft technician, or an avionics equipment technician. These individuals keep airplanes and helicopters running properly and safely, performing regular scheduled maintenance and FAA-required inspections.

Anyone who has ever successfully ridden on a plane owes a thank you to the aircraft mechanic, whose job it is to examine the plane's frame and parts for defects, determine if any parts are becoming worn out, and determine any mechanical or electrical problems.

Aircraft mechanics repair everything from wings to breaks to electrical systems. Aviation mechanic careers include replacing small parts with hand tools and test gauges and diagnostic equipment.

Aircraft mechanics may either work on a variety of aircrafts or specialize in one part of a specific type of aircraft, such as the engine, hydraulics, or electrical system.

Like aircraft mechanics, avionics equipment technicians also look for potential issues with aircraft. Avionics equipment technician careers include testing an aircraft's technical instruments, using everything from small hand tools to circuit testers, oscilloscopes, and voltmeters.

An aircraft technician career involves interpreting flight data, searching for possible malfunctions or performance problems.

An avionic equipment technician career includes assembling components, installing instruments, and repairing any malfunctioning instruments.

Aircraft mechanics and avionics equipment technicians keep scrupulous records of all tests and maintenance performed.

10.Flight Attendants
Education and Certifications Flight Attendants Need
People interested in a flight attendant career need a high school diploma or equivalent, be at least 18 years of age or older and be eligible to work in the U.S. Some employers prefer applicants who have a college degree in an area such as tourism or public relations and have some customer experience.

People seeking a flight attendant career need to meet specific physical and medical requirements.

Flight attendant training usually lasts three to six weeks and covers topics such as emergency procedures and flight regulations. In addition, qualified flight attendants need certification from the Federal Aviation Administration (FAA), they also need to complete training on practice flights.

What They Do
It takes a strong personality, an ability to handle difficult (sometimes dangerous) situations quickly and calmly and a love of flying to pursue a flight attendant career. Flight attendants offer personal services to ensure that airline passengers are secure, safe and comfortable.

Flight attendant careers typically include verifying all safety equipment including oxygen bottles and fire extinguishers are working, discussing preflight briefing and issues, and ensuring an airplane has the required food and drink supplies on board. Flight attendant careers also involve showing passengers how to use emergency equipment and making sure they fasten their seatbelts.

A flight attendant career involves offering refreshments and meals, taking care of passengers during flight, assisting those with special needs and directing and assisting passengers in cases of emergency.

11.Quality Control Personnel
Those with a strong attention to detail and an interest in materials and manufacturing can enjoy a career on the factory floor as a quality control specialist. Inspectors, testers, and graders are responsible fore checking all parts and materials as they make their way down the assembly line to ensure everything meets safety and quality standards. These professionals amy be involved with performing detailed tests, producing reports, and using sophisticated software and tools to perform their tasks with a high degree of accuracy.
Most Famous Institutions for Studying Maintenance Engineering are:

12. Aircraft Manufacturing Engineer
Individuals with a background in engineering can serve as an aircraft manufacturing engineer. These engineers re responsible for developing and instilling different types of manufacturing systems for a certain type of aircraft, developing maintenance programs, and meeting production quotas. Some are responsible for overseeing a team of engineers on the factory floor. The job is highly technical in nature and may require extensive on-the-job training.

13.Airport Operations Manager
All major airports function as large-scale businesses and require the leadership of an experienced director or manager. The airport operations manager oversees all aspects of business management, economics, public relations, and personnel management. They may develop and enforce rules and regulations for the property, manage budgets, and train employees.

14.Aviation Maintenance Technician
Always in demand, aviation maintenance technicians are responsible for checking and preparing electric and mechanical components of an aircraft. They must comply with certain standards and perform various safety checks. This is a dynamic career with several options to specialize. Those with military experience already have valuable training that can be applied towards the FAA credits for practical experience for mechanics certification.

a) School of Aeronautics in Alwar.

b) Alpine Group of Institutes in Dehradun.

c) Star Aviation Academy in Gurgaon.

d) Bharat Institute of Aeronautics in Patna.

e) Avalon Academy in Meerut.

f) Sha Shib Group of Institutions in Bhopal.

g) Institute of Aeronautics and Engineering in Bhopal.

While these are mainstream courses and colleges, there are many more Indian aviation colleges and institutes that offer aviation education. These are:

1. University of Mumbai

2. Banasthali Vidhyapeeth

3. Noida International University

4. NIMS University

5. VELS University

6. Bombay Flying Club

7. Aptech Aviation and Hospitality

9. Aimfill International

10. SkyBird Aviation in Hyderabad

After studying aviation diploma and bachelor’s education, one can further pursue for aviation management or airport management courses to become:

1. Airport Manager/Assistant Manager.

2. Cargo Manager.

3. Ground Staff Manager.

4. Safety and Maintenance Manager.

Apart from these jobs in aviation, there are other opportunities such as:

a) Air Traffic Controller.

b) Flight Instructor.

c) Flight Engineer.

d) Factor Facilitators.

e) Flight Dispatchers.

f) Aviation Psychologists.

g) Aviation Doctors.

h) Ground duty agent.

Aviation is an open wide field for go getters. If you are looking to make a career in this field, then the stream has uncountable opportunities for you!


Introduction:

Airline or Commercial Pilots are aviation professionals who navigate and fly helicopters, aeroplanes and other aircraft.

Though the technical abilities for both the airline and commercial pilots are similar, you can find a difference in their job profiles.

 

Airline Pilots:

Airline Pilots usually work with airlines that deal in providing a commute system for people or cargo at a fixed schedule.

In short, we can say that an airline pilot has a pre-specified work routine.

Commercial Pilots:

A Commercial Pilot flies the aeroplanes for other purposes including charter flights, aerial photography, rescue operations, fire fighting and more.

Commercial Pilot is more involved in unscheduled flight activities; they are not bound with fixed work routines.

Eligibility to Become an Airline Pilot or Commercial Pilot:

Some of the essential prerequisites to become an Airline Pilot includes:

The candidate must be a high school graduate with a minimum of 50% marks in Maths and Physics
For Airline or Commercial Pilot License, an applicant must be 18 years of age
You must have perfect vision 6/6 in at least one of the eyes
The applicant must be physically fit; he should not suffer from any of the diseases
To gain commercial or airline pilot license, a student must score a minimum of 70% marks in all written and medical exams

Some of the conventional career options in the field of Aviation Include:

● Airline Commercial Pilot
● Charter Pilot
● Helicopter Pilot
● Aircraft Maintenance Engineer
● Airport Manager
● Ground Handling Agent at Airport Authorities of India or Airlines or Any other Pvt company
● Air Traffic Controller
● Airline Manager
● Aircraft Technician
● Maintenance Engineer with MRO's and Airport Operators
● Hospitality law
● Hotel accounting
● Catering science & hygiene
● Passenger handling
● Cabin crew
● In-flight service personnel
● Administrative Manager
● Aerospace Engineer
● Air Traffic Controller
● Aircraft Systems Assembler
● Airfield Operations Specialist
● Airline Ticket Agent
● Airport Director and Manager
● Aviation Logistician
● Avionics Technician
● Cargo Agent
● Cargo Handling Supervisor
● General Aviation Pilot
● Security Screener
● Unmanned Aircraft Operator
● Operations Supervisor

What Qualities Do You Need to Make A Career in Aviation Industry?
Good Communication Skills

You will be involved in conversations regularly. It doesn’t matter whether you’re an air traffic controller, aerospace engineer, or an aircraft maintenance engineer, you will have to communicate well.

You must possess the ability to convey your ideas in front of people.

Critical Thinking

A career in aviation is known as the most rewarding career because there are a bunch of problems that need a solution. So you need to have a problem-solving mind.

And this ability is not only required for technical jobs but also needed for non-technical backgrounds as well.

Positive Attitude

Along with shiny days, you will face dark nights too.

So as long as you remain calm and positive, you will be able to solve the arising issues.

When you go for an interview, the interviewer will notice whether you have a positive mindset or a negative one.

Honesty

Look! So many lives are connected with your every action. Once you show carelessness in maintaining aircraft or in any activity. You will have to be loyal to yourself, your team members, and the aviation law.

Start Believing in Teamwork

No, you can’t control everything alone. You have to respect and appreciate the other members of the team. It takes teamwork to provide a safe journey to the passengers.

Besides, you will gain a lot of knowledge about the industry and the chances of making a mistake will reduce.



इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (IATA) ने भविष्यवाणी की है कि भारतीय विमानन 2025 तक तीसरा सबसे बड़ा विमानन बाजार बनने जा रहा है, जो सूची में अमेरिका और चीन से पीछे है। यदि यह आईएटीए द्वारा की गई एक सही भविष्यवाणी है, तो भारतीय विमानन प्रणाली पेशेवरों की संख्या को उस समय की तुलना में दोगुना छूने का अनुमान लगाएगी जो अभी है। हालांकि वैश्विक वृद्धि स्थिर रहने की उम्मीद है, भारत केरल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में नए हवाई अड्डों के निर्माण के लिए तैयार है। अगर सब कुछ ठीक रहा तो देश में और उसके आसपास विमानन पेशेवरों की उच्च मांग होगी।

उन लोगों के लिए जो आसमान से टकराने की इच्छा रखते हैं, वे एक जीवित के लिए ऐसा कर सकते हैं। चाहे पायलट के रूप में हो या जमीन पर, एविएशन इंडस्ट्री में करियर विकल्प पायलटिंग, इंजीनियरिंग और मैकेनिक्स, एयरपोर्ट ऑपरेशंस या एयरक्राफ्ट मैन्युफैक्चरिंग में उन्नति के कई अवसर प्रदान करता है। वाणिज्यिक हवाई जहाज या निजी विनिर्माण कंपनियों से, हवाई अड्डों, या सरकारी संगठनों तक, कंपनियां मरम्मत और रखरखाव सेवाओं या तकनीशियनों को परीक्षण करने और विभिन्न विमानों के लिए नए तत्वों को विकसित करने के लिए तकनीशियनों और इंजीनियरों को नियुक्त करती हैं। एक मजबूत पृष्ठभूमि और गणित, विज्ञान या औद्योगिक इंजीनियरिंग की डिग्री वाले लोग विमानन में विशेष रूप से किराया कर सकते हैं।

विमानन शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए क्या पहलू हैं?

एविएशन एजुकेशन की फील्ड्स के आधार पर अलग-अलग ब्रांच होती हैं, जिसमें कोई काम करना चाहता है। य़े हैं:

1. एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग - इंजीनियरिंग की सबसे प्रतिष्ठित शाखाओं में से एक, जहां इंजीनियर हवाई जहाजों को डिजाइन करना सीखते हैं। एयरक्राफ्ट इंजीनियरिंग का अध्ययन करने के लिए, जो 4 साल का है, बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी / बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग कोर्स है, छात्रों को अपने उच्च माध्यमिक में एक विषय के रूप में विज्ञान की आवश्यकता होती है और कुल 50% अंकों का स्कोर होता है। कई योग्यता परीक्षाएं हैं जिनमें उम्मीदवारों को इस अभिजात वर्ग इंजीनियरिंग स्ट्रीम का अध्ययन करने के लिए खुद को योग्य साबित करना होगा। कुछ परीक्षाओं में जेईई मेन, बिट्सैट, एमईटी, वीआईटीईई, एसआरएमजेईईई, COMEDK UGET, KIITEE और IPU CET शामिल हैं।

जॉब आउटलुक - इस स्ट्रीम की एक आकर्षक विशेषता उच्च भुगतान वेतन सीमा है जो कार्य प्रोफ़ाइल प्रदान करती है। वेतन प्रति माह 1.5 लाख से 2.5 लाख के बीच होता है।

एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के अध्ययन के लिए सबसे प्रसिद्ध कॉलेज हैं:

a) भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बॉम्बे (IIT)।

b) भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर (IIT)।

c) भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर (IIT)।

d) चेन्नई विश्वविद्यालय (AU)।

e) PEC प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ (PECUT)।

च) मणिपाल प्रौद्योगिकी संस्थान, कर्नाटक (MIT)।

2. कमर्शियल पायलट - पायलट बनने के शुरुआती गेट कमर्शियल पायलट बन रहे हैं। 18 महीने की अवधि में विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थानों में वाणिज्यिक पायलट प्रशिक्षण दिए जाते हैं। जिन छात्रों ने भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित के साथ अपने 10 + 2 स्तर में विज्ञान का अध्ययन मुख्य विषयों के रूप में किया है (55% कुल अंकों के साथ) संबंधित संस्थानों द्वारा आयोजित पायलट एप्टीट्यूड टेस्ट के लिए बैठने के पात्र हैं। कुछ परीक्षण हैं - IGRUA (इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उरण अकादमी), एयर इंडिया एप्टीट्यूड टेस्ट।

जॉब आउटलुक - विमानन पायलटों की मांगें हमेशा सनकी होती हैं और यह छात्रों के लिए सबसे आकर्षक कैरियर के अवसरों में से एक है, जो वास्तव में उच्च उड़ान भरने का लक्ष्य रखते हैं! भारत में, विमानन क्षेत्र को आने वाले वर्षों में अधिक पायलटों की आवश्यकता है और वे एक फ्रेशर को प्रति माह 2 लाख का वेतन देने के लिए तैयार हैं। एक बार अनुभव होने पर, एक वाणिज्यिक पायलट प्रति माह औसतन 5-6 लाख का वेतन अर्जित करता है!

एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के अध्ययन के लिए सबसे प्रसिद्ध कॉलेज हैं:

a) भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर (IIT)।

बी) गोंदिया में सीएई ऑक्सफोर्ड।

ग) मैसूर में ओरिएंट फ्लाइट्स एविएशन अकादमी

घ) धाना में झंकार विमानन अकादमी।

ई) अहमदाबाद एविएशन एंड एरोनॉटिक्स लिमिटेड अहमदाबाद (एएए) में।

च) हैदराबाद में फ्लाईटेक एविएशन अकादमी।

g) रायबरेली (IGRUA) में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उरांव अकादमी।

3. एविएशन हॉस्पिटैलिटी - अगर आप आर्ट्स की पढ़ाई कर रहे हैं और आपको लगता है कि एविएशन इंडस्ट्री में करियर बनाने के आपके सपने खत्म हो गए हैं, तो दो बार सोचिए! हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र में विमानन क्षेत्र की भारी मांग है। एक कंपनी की प्रतिष्ठा कर्मचारियों द्वारा बनाई गई है, इसलिए आतिथ्य एक महत्वपूर्ण खंड है जिसमें कुछ वास्तव में जानकार पेशेवर हैं, जो अन्य ग्राहक सेवा प्रदान कर सकते हैं। एविएशन में डिप्लोमा कोर्स 12 से 15 महीने का कोर्स है और 50% अंकों के साथ किसी भी स्ट्रीम के छात्र और वास्तव में अच्छे संचार कौशल इस उद्योग से जुड़ सकते हैं।

नौकरी आउटलुक का उल्लेख है, विमानन उद्योग में ग्राहक सेवा के सदस्यों और घरेलू एयरलाइंस के लिए 25k से 30k प्रति माह के बीच शुरुआती वेतन सीमा है और विदेशी एयरलाइंस के लिए यह 45k से रु। के आसपास है। 1.3 लाख प्रति माह। उचित कार्य अनुभव के बाद, कोई भी घरेलू एयरलाइंस में मासिक वेतन के रूप में 70k से 85k तक आसानी से प्राप्त कर सकता है।

एविएशन हॉस्पिटैलिटी के अध्ययन के लिए सबसे प्रसिद्ध संस्थान हैं:

क) दिल्ली में विमानन, आतिथ्य और यात्रा प्रबंधन में फ्रैंकफिन डिप्लोमा।

बी) चेन्नई में पीटीसी एविएशन अकादमी।

c) नई दिल्ली में ब्लू स्काई एविएशन एकेडमी ऑफ एविएशन एंड हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट।

d) फ्रैंकफिन डिप्लोमा इन एविएशन, हॉस्पिटैलिटी एंड ट्रैवल मैनेजमेंट इन कोलकाता।

ई) नोएडा में श्री संस्कार स्कूल।

4. एविएशन में ग्राउंड स्टाफ - ये जॉब डिटेल जॉब पर ध्यान देने में से एक है, क्योंकि एविएशन में ग्राउंड स्टाफ यात्रियों, यात्रियों के प्राणियों की देखभाल करता है, विमान को सही पार्किंग स्पेस की ओर ले जाता है, टिकट चेक करता है और यात्रियों को सुरक्षित रूप से गाइड करता है। हवाई जहाजों के लिए। उड्डयन डिप्लोमा में ग्राउंड स्टाफ में डिप्लोमा कोर्स के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए, कक्षा 12 तक की शिक्षा होनी चाहिए और कम से कम 50% अंकों के साथ परीक्षा उत्तीर्ण करनी चाहिए।

जॉब आउटलुक - विमानन में एक ग्राउंड स्टाफ का शुरुआती औसत वेतन 18k मासिक है, जो कुछ अनुभव प्राप्त करने के बाद 45k तक जा सकता है।

5. एयरक्राफ्ट में मेंटेनेंस इंजीनियर - सुचारू और सुरक्षित संचालन के लिए एक हवाई जहाज के तकनीकी पहलुओं को रखरखाव इंजीनियरों द्वारा बनाए रखा जाता है। वे हवाई जहाजों के संचालन की जांच करने के लिए एयरोनॉटिकल इंजीनियरों के साथ मिलकर काम करते हैं और उसके बाद नागरिक उड्डयन महानिदेशालय द्वारा एक विमान रखरखाव प्रमाणपत्र प्रदान किया जाता है। विमान रखरखाव इंजीनियरिंग का अध्ययन करने के लिए, किसी को 50% अंकों (न्यूनतम) के कुल के साथ अपने 10 + 2 के स्तर के रूप में विज्ञान की आवश्यकता होती है। फिर उन्हें जेईई, जेईई मेन्स और राज्य स्तरीय इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं जैसे प्रवेश परीक्षाओं में उत्तीर्ण होना चाहिए।

जॉब आउटलुक - विमानन कंपनियों को दिन-प्रतिदिन के संचालन के लिए इन इंजीनियरों की आवश्यकता होती है और वे फ्रेशर्स को 7-8 लाख रुपये का वेतन देते हैं और यह अनुभव के वर्षों के बाद 20 लाख रुपये तक बढ़ सकता है।

6. एयरोस्पेस इंजीनियर
शिक्षा और प्रमाणपत्र एयरोस्पेस इंजीनियरों की आवश्यकता है
एक प्रवेश स्तर के एयरोस्पेस इंजीनियर को एयरोस्पेस इंजीनियरिंग या संबंधित क्षेत्र में स्नातक की डिग्री की आवश्यकता हो सकती है।

एक एयरोस्पेस इंजीनियर कैरियर के लिए उम्मीदवारों को विश्लेषणात्मक और महत्वपूर्ण सोच कौशल और जटिल समस्या को सुलझाने की क्षमता की आवश्यकता होती है। कई वैमानिकी इंजीनियर अमेरिकी सरकार के लिए रक्षा परियोजनाओं पर काम करते हैं, जिन्हें सुरक्षा मंजूरी की आवश्यकता होती है।

कुछ स्कूल अपनी डिग्री अर्जित करते समय भावी एयरोस्पेस इंजीनियरों को व्यावहारिक अनुभव देने के लिए कंपनियों के साथ साझेदारी करते हैं। कुछ विश्वविद्यालय अभ्यर्थियों के लिए पांच-वर्षीय कार्यक्रम भी प्रदान करते हैं, जो एक स्नातक और वैमानिकी इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त करते हैं। उन्नत शिक्षा उत्पाद अनुसंधान और विकास में सिखाने या काम करने के लिए एक एयरोस्पेस इंजीनियर को योग्य बना सकती है।

एयरोस्पेस इंजीनियर जो अनुभव प्राप्त करते हैं और अधिक जिम्मेदारी लेना चाहते हैं, उन्हें एक पेशेवर इंजीनियर के रूप में लाइसेंस प्राप्त करना चाहिए, जिसे आम तौर पर एक मान्यता प्राप्त इंजीनियरिंग कार्यक्रम और इंजीनियरिंग के बुनियादी ढांचे और व्यावसायिक इंजीनियरिंग परीक्षाओं में उत्तीर्ण होने वाले डिग्री की आवश्यकता होती है।

एयरोनॉटिकल इंजीनियर स्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद फंडामेंटल ऑफ इंजीनियरिंग की परीक्षा दे सकते हैं, जिस बिंदु पर वे इंजीनियरिंग परीक्षा के सिद्धांतों और अभ्यास को लेने के लिए पर्याप्त अनुभव प्राप्त करने के लिए इंजीनियर-इन-ट्रेनिंग या इंजीनियर इंटर्न के रूप में काम करते हैं।

कई राज्यों में एयरोस्पेस इंजीनियरों को अपने लाइसेंस को बनाए रखने के लिए सतत शिक्षा पाठ्यक्रम लेना चाहिए।

7. एयरोस्पेस इंजीनियरिंग और संचालन तकनीशियन
शिक्षा और प्रमाणपत्र एयरोस्पेस इंजीनियरिंग और संचालन तकनीशियनों की आवश्यकता है
एवियोनिक्स तकनीशियनों की नौकरियों के लिए उम्मीदवारों को विस्तार-उन्मुख होना चाहिए और उनके पास अच्छा संचार, महत्वपूर्ण-सोच, गणित, तकनीकी और पारस्परिक कौशल होना चाहिए।

एयरोस्पेस तकनीशियन के रूप में काम करने के लिए प्रमाणन की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन कौशल-आधारित कार्यक्रम आपको फेडरल एविएशन कमीशन के माध्यम से प्रमाणन प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं, जो आपकी भर्ती क्षमता को बढ़ा सकता है।

व्यावसायिक-तकनीकी स्कूलों द्वारा प्रस्तुत प्रमाणपत्र और डिप्लोमा कार्यक्रम एक एयरोस्पेस तकनीशियन के रूप में काम करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करते हैं, लेकिन नियोक्ता तेजी से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी की डिग्री में एक सहयोगी के साथ उम्मीदवारों की तलाश करते हैं। रक्षा अनुबंध पर काम करने के इच्छुक एयरोस्पेस तकनीशियनों को एक सुरक्षा मंजूरी के लिए अर्हता प्राप्त करनी चाहिए, जिसके लिए कभी-कभी अमेरिकी नागरिकता की आवश्यकता होती है।

वो क्या करते है
योग्य एयरोस्पेस इंजीनियरिंग और संचालन तकनीशियनों के बिना, हम में से कोई भी हवाई जहाज पर सुरक्षित महसूस नहीं कर सकता था। एयरोस्पेस तकनीशियन विमानन में नए डिजाइन का परीक्षण करने के लिए उपयोग किए जाने वाले उपकरणों के प्रभारी हैं। एक एयरोस्पेस इंजीनियरिंग और संचालन तकनीशियन समस्याओं को ठीक करने के लिए समाधान खोजने में मदद करता है।

एक एयरोस्पेस तकनीशियन कैरियर में इंजीनियरों और अन्य लोगों के काम का समर्थन करने के लिए बुनियादी इंजीनियरिंग सिद्धांतों और तकनीकी कौशल का उपयोग करना शामिल है जो विमान, अंतरिक्ष यान और उन्हें संचालित करने वाले सिस्टम को विकसित और बनाते हैं।

एक एयरोस्पेस तकनीशियन कैरियर में नए विमान डिजाइन का परीक्षण करने के लिए उड़ान सिमुलेशन के लिए प्रोग्रामिंग कंप्यूटर शामिल हैं; कंप्यूटर सिस्टम का संचालन और कैलिब्रेट करना ताकि वे विभिन्न परीक्षण आवश्यकताओं को पूरा करें। एक एयरोस्पेस तकनीशियन कैरियर में इंजीनियरों की विशिष्टताओं को पूरा करने के लिए परीक्षण सुविधाओं का निर्माण और रखरखाव भी शामिल है।

एयरोस्पेस तकनीक डेटा का परीक्षण, रिकॉर्ड और विश्लेषण करती है और समस्याओं का निदान करती है। कभी-कभी एवियोनिक्स तकनीशियन कहा जाता है, वे दोषपूर्ण घटकों को समायोजित, मरम्मत या प्रतिस्थापित करते हैं। एयरोस्पेस तकनीशियन एयरोस्पेस इंजीनियरों के साथ परीक्षण प्रक्रियाओं पर चर्चा करते हैं।

एक एयरोस्पेस तकनीक कैरियर में परीक्षण किए जाने वाले भागों और प्रणालियों को स्थापित करना और विमान प्रणालियों के उत्पादन की निगरानी करना शामिल हो सकता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे उच्चतम गुणवत्ता के हैं।

8. एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स
शिक्षा और प्रमाणपत्र एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स की आवश्यकता
हवाई यातायात नियंत्रक कैरियर शुरू करने के कई तरीके हैं। आवश्यकताएं बताती हैं कि एक आवेदक को अमेरिकी नागरिक होना चाहिए, 31 वर्ष से कम उम्र (केवल पिछले अनुभव के बिना), संघीय उड्डयन प्रशासन (एफएए) द्वारा मान्यता प्राप्त कॉलेजों में से एक से पूरा प्रशिक्षण, भाग लेना और एयर ट्रैफिक-कॉलेजिएट प्रशिक्षण से स्नातक होना। पहल और एफएए पूर्व रोजगार परीक्षण पर एक योग्यता स्कोर प्राप्त करते हैं।

यदि किसी कर्मी के पास पिछला अनुभव है, जैसे कि सशस्त्र बलों को हवाई यातायात नियंत्रण में प्रशिक्षण, तो उसे एफएए शिक्षा आवश्यकताओं को लेने की आवश्यकता नहीं हो सकती है। अन्य विशेष अपवाद शैक्षिक या प्रशिक्षण प्रतिस्थापन के संदर्भ में लागू हो सकते हैं। एक बार योग्य होने के बाद, एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स को समय-समय पर ड्रग टेस्ट और कठोर शारीरिक परीक्षा पास करने के साथ-साथ साल में दो बार एक प्रदर्शन परीक्षा पास करनी होती है।

वो क्या करते है
यदि विमानन सुरक्षा और सुरक्षा के लिए काम करना एक रोमांचक और चुनौतीपूर्ण अवसर की तरह लगता है, तो एक हवाई यातायात नियंत्रक कैरियर आपके भविष्य में हो सकता है। वायु यातायात नियंत्रक संघीय और कंपनी की सुरक्षा नीतियों और प्रक्रियाओं के अनुसार विमानन यातायात के प्रवाह को अधिकृत, नियंत्रित और निगरानी करते हैं।

वायु यातायात नियंत्रक करियर में हवाई जहाज के आगमन और लैंडिंग का आयोजन और समन्वय करना शामिल है। एयर ट्रैफिक कंट्रोलर करियर में पायलटों को रिले के निर्देश शामिल होते हैं, विशेष राडार और कंप्यूटर उपकरणों का उपयोग करते हुए वायुयानों की आवाजाही को निर्देशित करते हुए सुरक्षा को अधिकतम करने और उड़ान पथ परिवर्तनों और / या आपात स्थितियों के पायलटों को सूचित और अधिकृत करते हैं।

एक एयर ट्रैफिक कंट्रोलर कैरियर में मौसम की रिपोर्ट या दृश्यता संबंधी मुद्दों और सामान रखने वाले वाहनों और श्रमिकों सहित जमीनी यातायात की निगरानी जैसी महत्वपूर्ण जानकारी शामिल है

9. सर्किट और एवियोनिक्स उपकरण मैकेनिक्स और तकनीशियन-
शिक्षा और प्रमाणपत्र विमान और एविओनिक्स उपकरण यांत्रिकी और तकनीशियनों की आवश्यकता है
विमान मैकेनिक, एविओनिक्स उपकरण मैकेनिक, एयरक्राफ्ट टेक्नीशियन या एविओनिक्स इक्विपमेंट टेक्नीशियन जैसे एविएशन करियर की शुरुआत एफएए से मान्यता प्राप्त एविएशन मेंटेनेंस टेक्निकल स्कूल से कर सकते हैं। इनमें से कुछ स्कूल एसोसिएट डिग्री प्रदान करते हैं, जबकि अन्य बैचलर ऑफ एविओनिक्स, एविएशन टेक्नोलॉजी या एविएशन मेंटेनेंस मैनेजमेंट प्रदान करते हैं। कई नियोक्ता स्नातक की डिग्री वाले उम्मीदवारों को पसंद करते हैं।

विमान यांत्रिकी, एवियोनिक्स उपकरण यांत्रिकी, विमान तकनीशियन, और एवियोनिक्स उपकरण तकनीशियनों को संघीय विमानन प्रशासन (एफएए) से प्रमाणन की आवश्यकता होती है। यद्यपि एयरफ़्रेम मैकेनिक्स और इंजन मैकेनिक्स के लिए अलग-अलग प्रमाणपत्र उपलब्ध हैं, नियोक्ता एक संयुक्त एयरफ़्रेम और पावरप्लांट (ए एंड पी) प्रमाण पत्र के साथ व्यक्तियों को काम पर रखना पसंद करते हैं।

अपने प्रमाणीकरण को बनाए रखने के लिए, विमान यांत्रिकी को हर 90 दिनों में विमान का निरीक्षण या मरम्मत करनी चाहिए और हर दो साल में एक रिफ्रेशर कोर्स में भाग लेना चाहिए।

वो क्या करते है
कितने छोटे बच्चे बड़े होकर हवाई जहाज पर काम करने का सपना देखते हैं? उनका सपना एक विमान मैकेनिक, एविओनिक्स उपकरण मैकेनिक, एयरक्राफ्ट तकनीशियन, या एविओनिक्स उपकरण तकनीशियन के रूप में एक वास्तविकता बन सकता है। ये व्यक्ति नियमित रूप से निर्धारित रखरखाव और FAA- आवश्यक निरीक्षण करते हुए हवाई जहाज और हेलीकॉप्टर को ठीक से और सुरक्षित रूप से चलाते रहते हैं।

जिस किसी ने भी कभी किसी विमान पर सफलतापूर्वक सवारी की है, वह विमान मैकेनिक को धन्यवाद देता है, जिसका काम विमान के फ्रेम और दोषों के लिए भागों की जांच करना है, यह निर्धारित करना कि क्या कोई हिस्सा खराब हो रहा है, और किसी यांत्रिक या विद्युत समस्याओं का निर्धारण करें।

एयरक्राफ्ट मैकेनिक पंखों से लेकर इलेक्ट्रिकल सिस्टम तक सब कुछ दुरुस्त करते हैं। एविएशन मैकेनिक करियर में हाथ उपकरण और परीक्षण गेज और नैदानिक उपकरण के साथ छोटे भागों को बदलना शामिल है।

विमान यांत्रिकी या तो विभिन्न प्रकार के विमानों पर काम कर सकते हैं या एक विशेष प्रकार के विमान के एक हिस्से में विशेषज्ञ हो सकते हैं, जैसे कि इंजन, हाइड्रोलिक्स या इलेक्ट्रिकल सिस्टम।

विमान यांत्रिकी की तरह, एविओनिक्स उपकरण तकनीशियन भी विमान के साथ संभावित मुद्दों की तलाश करते हैं। एवियोनिक्स उपकरण तकनीशियन करियर में एक विमान के तकनीकी उपकरणों का परीक्षण करना शामिल है, जिसमें छोटे हाथ के उपकरण से लेकर सर्किट टेस्टर, ऑसिलोस्कोप, और वोल्टमीटर तक सब कुछ शामिल है।

एक विमान तकनीशियन कैरियर में उड़ान डेटा की व्याख्या करना, संभावित खराबी या प्रदर्शन समस्याओं की खोज करना शामिल है।

एक एवियोनिक उपकरण तकनीशियन कैरियर में घटकों को इकट्ठा करना, उपकरणों को स्थापित करना और किसी भी खराबी वाले उपकरणों की मरम्मत करना शामिल है।

विमान यांत्रिकी और एविओनिक्स उपकरण तकनीशियन प्रदर्शन किए गए सभी परीक्षणों और रखरखाव के शानदार रिकॉर्ड रखते हैं।

10. फ़ाइनल अटेंडेंट
शिक्षा और प्रमाणपत्र फ्लाइट अटेंडेंट की जरूरत
फ्लाइट अटेंडेंट करियर में रुचि रखने वाले लोगों को हाई स्कूल डिप्लोमा या समकक्ष की आवश्यकता होती है, कम से कम 18 वर्ष या उससे अधिक उम्र का होना चाहिए और अमेरिका में काम करने के लिए योग्य होना चाहिए। कुछ नियोक्ता ऐसे आवेदकों को प्राथमिकता देते हैं, जिनके पास पर्यटन या जनसंपर्क जैसे क्षेत्र में कॉलेज की डिग्री हो। और कुछ ग्राहक अनुभव है।

फ्लाइट अटेंडेंट के कैरियर की तलाश करने वाले लोगों को विशिष्ट शारीरिक और चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करना होगा।

उड़ान परिचर प्रशिक्षण आमतौर पर तीन से छह सप्ताह तक रहता है और आपातकालीन प्रक्रियाओं और उड़ान नियमों जैसे विषयों को शामिल करता है। इसके अलावा, योग्य उड़ान परिचारकों को फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन (एफएए) से प्रमाणन की आवश्यकता होती है, उन्हें अभ्यास उड़ानों पर प्रशिक्षण पूरा करने की भी आवश्यकता होती है।

वो क्या करते है
यह एक मजबूत व्यक्तित्व, कठिन (कभी-कभी खतरनाक) स्थितियों को जल्दी और शांत रूप से संभालने की क्षमता और उड़ान परिचर कैरियर को आगे बढ़ाने के लिए उड़ान भरने का एक प्यार लेता है। उड़ान परिचारक यह सुनिश्चित करने के लिए व्यक्तिगत सेवाएँ प्रदान करते हैं कि एयरलाइन यात्री सुरक्षित, सुरक्षित और आरामदायक हों।

फ्लाइट अटेंडेंट करियर में आमतौर पर ऑक्सीजन की बोतलों सहित सभी सुरक्षा उपकरणों की पुष्टि करना शामिल होता है और आग बुझाने वाले उपकरण काम कर रहे होते हैं, प्रीफ्लाइट ब्रीफिंग और मुद्दों पर चर्चा करते हैं, और यह सुनिश्चित करते हुए कि हवाई जहाज में बोर्ड पर आवश्यक भोजन और पेय की आपूर्ति होती है। फ्लाइट अटेंडेंट करियर में यात्रियों को आपातकालीन उपकरणों का उपयोग करना और यह सुनिश्चित करना भी शामिल है कि वे अपने सीटबेल्ट को तेज कर दें।

एक फ्लाइट अटेंडेंट के करियर में उड़ान के दौरान यात्रियों की देखभाल, भोजन और भोजन की पेशकश करना, विशेष जरूरतों वाले लोगों की सहायता करना और आपातकाल के मामलों में यात्रियों को निर्देश देना और सहायता करना शामिल है।

11. गुणवत्ता नियंत्रण कार्मिक
विस्तार और सामग्रियों और निर्माण में रुचि रखने वाले लोगों का ध्यान गुणवत्ता नियंत्रण विशेषज्ञ के रूप में कारखाने के फर्श पर एक कैरियर का आनंद ले सकता है। निरीक्षक, परीक्षक और ग्रेडर सभी भागों और सामग्रियों की जाँच करने के लिए जिम्मेदार होते हैं क्योंकि वे सब कुछ सुरक्षा और गुणवत्ता मानकों को पूरा करने के लिए असेंबली लाइन के नीचे अपना रास्ता बनाते हैं। इन पेशेवरों को विस्तृत परीक्षण करने, रिपोर्ट तैयार करने और परिष्कृत सॉफ्टवेयर और उपकरणों का उपयोग करने के साथ उच्च स्तर की सटीकता के साथ अपने कार्यों को करने में शामिल होना चाहिए।
रखरखाव इंजीनियरिंग अध्ययन के लिए सबसे प्रसिद्ध संस्थान हैं:

12. विमान निर्माण इंजीनियर
इंजीनियरिंग में एक पृष्ठभूमि वाले व्यक्ति एक विमान निर्माण इंजीनियर के रूप में काम कर सकते हैं। ये इंजीनियर एक निश्चित प्रकार के विमान के लिए विभिन्न प्रकार की निर्माण प्रणालियों को विकसित करने और स्थापित करने, रखरखाव कार्यक्रमों को विकसित करने और उत्पादन कोटा को पूरा करने के लिए जिम्मेदार हैं। कुछ कारखाने के फर्श पर इंजीनियरों की एक टीम की देखरेख के लिए जिम्मेदार हैं। यह कार्य प्रकृति में अत्यधिक तकनीकी है और इसमें व्यापक ऑन-द-जॉब प्रशिक्षण की आवश्यकता हो सकती है।

13 .पार्टी संचालन प्रबंधक
सभी प्रमुख हवाई अड्डे बड़े पैमाने पर व्यवसायों के रूप में कार्य करते हैं और एक अनुभवी निदेशक या प्रबंधक के नेतृत्व की आवश्यकता होती है। हवाई अड्डे के संचालन प्रबंधक व्यवसाय प्रबंधन, अर्थशास्त्र, जनसंपर्क और कार्मिक प्रबंधन के सभी पहलुओं की देखरेख करते हैं। वे संपत्ति के लिए नियमों और विनियमों को विकसित और लागू कर सकते हैं, बजट का प्रबंधन कर सकते हैं और कर्मचारियों को प्रशिक्षित कर सकते हैं।

14.अभियोजन रखरखाव तकनीशियन
हमेशा मांग में, विमानन रखरखाव तकनीशियन एक विमान के इलेक्ट्रिक और मैकेनिकल घटकों की जांच और तैयारी के लिए जिम्मेदार होते हैं। उन्हें कुछ मानकों का पालन करना चाहिए और विभिन्न सुरक्षा जांच करनी चाहिए। यह एक डायनेमिक करियर है जिसमें विशेषज्ञ के कई विकल्प हैं। सैन्य अनुभव वाले लोगों के पास पहले से ही मूल्यवान प्रशिक्षण है जो यांत्रिकी प्रमाणीकरण के लिए व्यावहारिक अनुभव के लिए एफएए क्रेडिट की ओर लागू किया जा सकता है।

ए) अलवर में स्कूल ऑफ एरोनॉटिक्स।

b) देहरादून में अल्पाइन ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट्स।

c) गुड़गांव में स्टार एविएशन अकादमी।

d) पटना में भारत इंस्टीट्यूट ऑफ एरोनॉटिक्स।

e) मेरठ में एवलॉन एकेडमी।

f) भोपाल में शा शिब ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस।

छ) भोपाल में इंस्टीट्यूट ऑफ एरोनॉटिक्स एंड इंजीनियरिंग।

जबकि ये मुख्यधारा के पाठ्यक्रम और कॉलेज हैं, कई और भारतीय विमानन कॉलेज और संस्थान हैं जो विमानन शिक्षा प्रदान करते हैं। य़े हैं:

1. मुंबई विश्वविद्यालय

2. बनस्थली विद्यापीठ

3. नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी

4. NIMS विश्वविद्यालय

5. VELS विश्वविद्यालय

6. बॉम्बे फ्लाइंग क्लब

7. एप्टेक एविएशन एंड हॉस्पिटैलिटी

9. अनिमफिल इंटरनेशनल

10. हैदराबाद में स्काईबर्ड एविएशन

विमानन डिप्लोमा और स्नातक की शिक्षा का अध्ययन करने के बाद, विमानन प्रबंधन या हवाई अड्डा प्रबंधन पाठ्यक्रमों के लिए आगे कोई भी व्यक्ति बन सकता है:

1. हवाई अड्डा प्रबंधक / सहायक प्रबंधक।

2. कार्गो मैनेजर।

3. ग्राउंड स्टाफ मैनेजर।

4. सुरक्षा और रखरखाव प्रबंधक।

विमानन में इन नौकरियों के अलावा, अन्य अवसर भी हैं जैसे:

a) एयर ट्रैफिक कंट्रोलर।

b) फ्लाइट इंस्ट्रक्टर।

c) फ्लाइट इंजीनियर।

d) फैक्टर फैसिलिटेटर्स।

ई) फ्लाइट डिस्पैचर।

च) उड्डयन मनोवैज्ञानिक।

छ) एविएशन डॉक्टर्स।

ज) ग्राउंड ड्यूटी एजेंट।

एविएशन गो गेटर्स के लिए एक खुला विस्तृत क्षेत्र है। यदि आप इस क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो स्ट्रीम में आपके लिए बेशुमार अवसर हैं!


परिचय:

एयरलाइन या वाणिज्यिक पायलट विमानन पेशेवर हैं जो हेलीकॉप्टर, हवाई जहाज और अन्य विमानों को नेविगेट और उड़ाते हैं।

हालांकि एयरलाइन और वाणिज्यिक पायलट दोनों के लिए तकनीकी क्षमता समान है, आप उनके जॉब प्रोफाइल में अंतर पा सकते हैं।

 

एयरलाइन पायलट:

एयरलाइन पायलट आमतौर पर एयरलाइनों के साथ काम करते हैं जो लोगों या कार्गो के लिए एक निश्चित समय पर आवागमन प्रणाली प्रदान करने का काम करते हैं।

संक्षेप में, हम कह सकते हैं कि एयरलाइन पायलट के पास पूर्व-निर्दिष्ट कार्य दिनचर्या है।

वाणिज्यिक पायलट:

एक वाणिज्यिक पायलट चार्टर उड़ानों, हवाई फोटोग्राफी, बचाव कार्यों, अग्निशमन और अधिक सहित अन्य प्रयोजनों के लिए हवाई जहाज को उड़ाता है।

वाणिज्यिक पायलट अनिर्धारित उड़ान गतिविधियों में अधिक शामिल है; वे नियत कार्य दिनचर्या से बंधे नहीं हैं।

एयरलाइन पायलट या वाणिज्यिक पायलट बनने की पात्रता:

एयरलाइन पायलट बनने के लिए कुछ आवश्यक शर्तें शामिल हैं:

उम्मीदवार को मैथ्स और फिजिक्स में न्यूनतम 50% अंकों के साथ हाई स्कूल ग्रेजुएट होना चाहिए
एयरलाइन या कमर्शियल पायलट लाइसेंस के लिए आवेदक की आयु 18 वर्ष होनी चाहिए
आपको कम से कम आंखों में से 6/6 की सही दृष्टि होनी चाहिए
आवेदक को शारीरिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए; वह किसी भी बीमारी से पीड़ित नहीं होना चाहिए
वाणिज्यिक या एयरलाइन पायलट लाइसेंस प्राप्त करने के लिए, एक छात्र को सभी लिखित और चिकित्सा परीक्षाओं में न्यूनतम 70% अंक प्राप्त करने चाहिए

विमानन के क्षेत्र में कुछ पारंपरिक कैरियर विकल्प शामिल हैं:

● एयरलाइन वाणिज्यिक पायलट
● चार्टर पायलट
● हेलीकाप्टर पायलट
● विमान रखरखाव इंजीनियर
● हवाई अड्डा प्रबंधक
● एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया या एयरलाइंस या किसी अन्य प्राइवेट कंपनी में ग्राउंड हैंडलिंग एजेंट
● एयर ट्रैफिक कंट्रोलर
● एयरलाइन प्रबंधक
● विमान तकनीशियन
● एमआरओ और एयरपोर्ट ऑपरेटरों के साथ रखरखाव इंजीनियर
● आतिथ्य कानून
● होटल का लेखा
● खानपान विज्ञान और स्वच्छता
● यात्री संभाल
● केबिन क्रू
● उड़ान सेवा कर्मियों में
● प्रशासनिक प्रबंधक
● एयरोस्पेस इंजीनियर
● एयर ट्रैफिक कंट्रोलर
● एयरक्राफ्ट सिस्टम असेंबलर
● एयरफील्ड संचालन विशेषज्ञ
● एयरलाइन टिकट एजेंट
● हवाई अड्डे के निदेशक और प्रबंधक
● विमानन तर्कशास्त्री
● एवियोनिक्स तकनीशियन
● कार्गो एजेंट
● कार्गो हैंडलिंग पर्यवेक्षक
● सामान्य विमानन पायलट
● सुरक्षा स्क्रेनर
● मानव रहित विमान परिचालक
● संचालन पर्यवेक्षक

एविएशन इंडस्ट्री में करियर बनाने के लिए आपको किन खूबियों की जरूरत है?
अच्छा संचार कौशल

आप नियमित रूप से बातचीत में शामिल होंगे। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप हवाई यातायात नियंत्रक, एयरोस्पेस इंजीनियर, या विमान रखरखाव इंजीनियर हैं, आपको अच्छी तरह से संवाद करना होगा।

आपको लोगों के सामने अपने विचारों को व्यक्त करने की क्षमता होनी चाहिए।

गहन सोच

विमानन में एक कैरियर को सबसे पुरस्कृत कैरियर के रूप में जाना जाता है क्योंकि समस्याओं का एक गुच्छा होता है जिनके समाधान की आवश्यकता होती है। इसलिए आपको समस्या को सुलझाने वाले दिमाग की जरूरत है।

और यह क्षमता न केवल तकनीकी नौकरियों के लिए आवश्यक है, बल्कि गैर-तकनीकी पृष्ठभूमि के लिए भी आवश्यक है।

सकारात्मक रवैया

चमकदार दिनों के साथ, आप अंधेरे रातों का भी सामना करेंगे।

इसलिए जब तक आप शांत और सकारात्मक रहेंगे, तब तक आप आने वाले मुद्दों को हल करने में सक्षम होंगे।

जब आप एक साक्षात्कार के लिए जाते हैं, तो साक्षात्कारकर्ता ध्यान देगा कि क्या आपके पास सकारात्मक मानसिकता है या नकारात्मक है।

ईमानदारी

देखो! आपके हर कार्य के साथ बहुत सारे जीवन जुड़े हुए हैं। एक बार जब आप विमान या किसी गतिविधि को बनाए रखने में लापरवाही दिखाते हैं। आपको अपने, अपने टीम के सदस्यों और विमानन कानून के प्रति वफादार रहना होगा।

टीमवर्क में विश्वास करना शुरू करें

नहीं, आप अकेले सब कुछ नियंत्रित नहीं कर सकते। आपको टीम के अन्य सदस्यों का सम्मान और सराहना करनी होगी। यात्रियों को सुरक्षित यात्रा प्रदान करने के लिए टीम वर्क लगता है।

इसके अलावा, आप उद्योग के बारे में बहुत अधिक ज्ञान प्राप्त करेंगे और गलती करने की संभावना कम हो जाएगी।

Comments